Print this page

भिलाई निगम की अतिक्रमण की कार्यवाही क्या सिर्फ गरीबो पर अमीरों के अतिक्रमण पर क्यों मेहरबान है भिलाई निगम Featured

भिलाई नगर/ शौर्यपथ /

    भिलाई नगर पालिक निगम द्वारा एक बार फिर अवैध अतिक्रमण पर कार्यवाही तेज कर दी गई है किंतु हर बार की तरह इस बार भी कार्यवाही छोटे-छोटे गुमठी हो कच्चे टीन टप्पर की दुकानों और ऐसे व्यापारियों पर निगम का प्रशासनिक जोर चला है जो दो वक्त की रोटी के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं ऐसा भी कहा जा सकता है कि भिलाई नगर पालिक निगम के स्वयं के परिसर पर कई अवैध दुकानों का निर्माण हो चुका है विस्तार हो चुका है बिना अनुमति प्राप्त दुकानों की मूल संरचना बदली जा चुकी है किंतु नगर पालिक निगम भिलाई द्वारा अवैध अवैधानिक संस्थाओं पर किसी भी तरह की कार्यवाही नहीं की गई है।
    जी हां अगर बात करें तो भिलाई नगर पालिक निगम के स्वामित्व की दुकाने जो आकाशगंगा में स्थित है पर देखा जाए तो पूरी तरह से अवैध कब्जा कर पक्का निर्माण कर बरामदे को पूरी तरह से घेर कर व्यापार किया जा रहा है किन्तु  नगर पालिक निगम द्वारा पूरे मामले की जानकारी के बावजूद भी इस पर ना तो किसी तरह की कार्रवाई की जा रही है और ना ही मामले को संज्ञान में लेकर कोई पहल की जा रही है आश्चर्य की बात तो यह है कि इसी आकाशगंगा परिसर पर जहां 1-1 दुकाने लाखों करोड़ों की है ऐसी स्थिति के बावजूद भी पारस ज्वेलर्स  द्वारा खुलेआम अपनी सीमा से बढ़कर बड़े दुकान का निर्माण कर लिया गया है जिसकी जानकारी जोन कार्यालय से लेकर भवन अनुज्ञा अधिकारी तक को है .
     इस मामले पर जब भी जानकारी मांगी जाती है जिम्मेदार अधिकारियों का बस यही कहना रहता है कि फाइल आगे बढ़ा दी गई है पता नहीं निगम की है फाइल कितनी आगे बढ़ गई है जो अवैधानिक रूप से बरामदे पर कब्जा कर दुकान संचालित करने वालों पर निर्धारित सीमा से ज्यादा स्थान पर पक्का निर्माण कर व्यापार करने वाले सफेदपोश संचालकों पर कार्यवाही करने से निगम प्रशासन पीछे हट रहा है वही निगम प्रशासन के अधिकारी गरीबों की घंटियों को हटाकर शहर को स्वच्छ रखने की बात कर रहे हैं क्या प्रशासनिक ताकत और प्रशासनिक शक्तियां ऐसे अवैध निर्माण करने वालों के सामने नतमस्तक हो गई है या फिर जिम्मेदार अधिकारियों या आयुक्त के पास इन जैसे सफेद संचालकों पर कार्यवाही करने की इच्छा शक्ति समाप्त हो गई है.
    देखना यह है कि आने वाले समय पर निगम का प्रशासनिक डंडा क्या सभी पर बराबर चलेगा या एक बार फिर अमीरी गरीबी का खेल होता रहेगा एक तरफ जहां प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल हर वर्ग के लोगों की फिक्र कर रहे हैं और उनके लिए योजनाएं बना रहे हैं वही भिलाई निगम में भेदभाव पूर्ण कार्यवाही को अंजाम दिया जा रहा है पिछले साल भी बरसात के पहले निगम का अतिक्रमण दस्ता इसी प्रकार की कार्यवाही कर चुका है किंतु तब निगम में जिला प्रशासन शासक के रूप में थे किंतु अब जनता के चुने हुए प्रतिनिधि महापौर के रूप में भिलाई निगम में सत्ता संभाले हुए हैं ऐसे में देखना है कि क्या भिलाई निगम के महापौर नीरज पाल आकाशगंगा मार्केट में हुए अवैध अतिक्रमण एवं निर्माण पर सख्त कदम उठाते हैं या फिर मौन रहकर अमीरी गरीबी का यह खेल चुपचाप देखते रहेंगे ...

भिलाई के मुख्य प्रवेश से हटाए गए अवैध अतिक्रमण, अतिक्रमण के विरुद्ध भिलाई निगम ने छेड़ा अभियान, आज फिर शहर से हटाए गए कई अवैध कब्जे

     नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्र अंतर्गत अतिक्रमण के विरुद्ध भिलाई निगम ने अभियान छेड़ दिया है। शहर से अवैध ठेले एवं कब्जों को हटाया जा रहा है। भिलाई शहर के मुख्य सड़कों के किनारे अवैध अतिक्रमण के विरुद्ध निगम ने मुहिम छेड़ रखा है। लगातार विगत सप्ताह से कार्यवाही की जा रही है। निगम आयुक्त प्रकाश सर्वे के निर्देश पर आज भिलाई के प्रवेश वाले चौक डबरा पारा चौक पर आज पांच ठेलो को हटाने की कार्रवाई की गई। वही नेहरू नगर भारत माता चौक से पावर हाउस चौक तक पुन: टीम ने निरीक्षण करते हुए सर्विस रोड के किनारे से अतिक्रमण को हटवाया, सुपेला दक्षिण गंगोत्री से भी एक ठेले को हटाने की कार्रवाई की गई। आज की कार्यवाही में निगम के साथ ट्रैफिक पुलिस के जवान भी मौजूद रहे। संजय नगर तालाब के पास बेतरतीब तरीके से खड़े वाहनों का चालान ट्रैफिक पुलिस ने काटा। वही प्रमुख सड़कों के किनारे लंबे अरसे से रखें वाहनों को जब्ती बनाने की कार्यवाही की जा रही है। निगम के आज की कार्यवाही में सहायक राजस्व अधिकारी मलखान सिंह सोरी, परमेश्वर चंद्राकर एवं बालकृष्ण नायडू तथा तोडफ़ोड़ दस्ता की टीम विशेष रूप से मौजूद रही। उल्लेखनीय है कि अतिक्रमण के चलते ट्रैफिक दबाव बढ़ रहा है, दुर्घटना की संभावनाएं बढ़ रही है, नालियों की सफाई करने में भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, इन सभी कारणों से अवैध अतिक्रमण को हटाने की कार्यवाही निगम प्रशासन द्वारा की जा रही है। बारंबार समझाइश देने वालों को फिर से अतिक्रमण करने के बाद उनके अवैध कब्जे को निस्तेनाबूत किया जा रहा है। वहीं सड़क पर मलबा बिखेरकर रखने वाले लोगों पर जुर्माना की कार्यवाही सहित मलबा की जब्ती बनाई जा रही है। सड़क किनारे से अवैध अतिक्रमण एवं अवैध कब्जे को हटाने भिलाई निगम प्रशासन ने अभियान छेड़ा है, आगे भी इसी प्रकार की कार्यवाही जारी रहेगी।

Rate this item
(0 votes)
शौर्यपथ