February 05, 2023
Hindi Hindi
शौर्यपथ

शौर्यपथ

रायपुर / शौर्यपथ / मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में बीते चार सालों में हर व्यक्ति को न्याय, सम्मान और स्वाभिमान के साथ आगे बढ़ने का बेहतर अवसर मिला है। इसके फलस्वरूप राज्य में सभी वर्ग के लोगों में समृद्धि आई है और उनका जीवन खुशहाली से भर उठा है।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज शाम राजधानी के निजी होटल में साधना न्यूज समूह द्वारा आयोजित ‘‘दो दूनी-चार खुशियां अपार’’ कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने चर्चा-परिचर्चा में भाग लेते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के समन्वित विकास के लिए हमने न्याय को आधार बनाकर सुशासन की एक संकल्पना गढ़ी थी। इनमें सभी वर्गों को समाज में उचित सम्मान मिले और वे पूरे आत्मसम्मान के साथ आगे बढ़ सके। इसे लेकर हमारी सरकार द्वारा कई न्याय योजनाएं शुरू की गई। हमारी सरकार द्वारा चलाई जा रही इन जनकल्याणकारी योजनाओं के परिणाम धरातल पर साफ-साफ दिखाई देने लगे हैं। इससे राज्य में सभी वर्ग के लोगों को उन्नति के भरपूर अवसर मिले और उनके जीवन में समृद्धि आई है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने इस तारतम्य में छत्तीसगढ़ में 2 अक्टूबर 2019 से संचालित सुराजी गांव योजना का जिक्र करते हुए बताया कि इसके तहत प्रदेश में जल संरक्षण, पशु संवर्धन तथा पोषण प्रबंधन को बढ़ावा मिला है और इससे गांव-गांव स्वावलंबी होने लगे हैं। ग्रामीणों को स्थानीय स्तर पर ही बड़े तादाद में रोजगार के अवसर सुलभ हुए हैं और उनकी आय में भी वृद्धि हुई है। इसी तरह गोधन न्याय योजना, राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना, राजीव गांधी किसान न्याय योजना आदि से समाज के एक बड़े वर्ग किसानों, पशुपालकों और खेतीहर मजदूरों को आर्थिक संबल मिला है। इसी तरह समर्थन मूल्य पर लघु वनोपजों आदि की खरीदी से आदिवासी-वनवासी संग्राहकों को इनका संग्रहण का भरपूर लाभ मिलने लगा है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बताया कि राज्य में लगभग 70 प्रतिशत आबादी कृषि पर निर्भर है। राज्य का अधिकांश क्षेत्र वर्षा आधारित होने से मौसमी प्रतिकूलता, कृषि आदान लागत में वृद्धि के कारण कृषि आय में अनिश्चितता बनी रहती थी। फलस्वरूप कृषक फसल उत्पादन के लिए आवश्यक आदान जैसे उन्नत बीज, यांत्रिकीकरण तथा कृषि तकनीकी आदि में पर्याप्त निवेश नहीं कर पाते थे। इसे ध्यान में रखते हुए हमारी सरकार द्वारा राज्य में कृषि में पर्याप्त निवेश एवं कास्त लागत में राहत देने कृषि इनपुट सब्सिडी हेतु राजीव गांधी किसान न्याय योजना लागू की गई है। इसी तरह गांव-गांव में पशुधन के संरक्षण और संवर्धन के साथ-साथ रोजगार के नए अवसर सृजित करने के लिए गोधन न्याय योजना लागू की गई है। दो रूपए किलो में गोबर खरीदी की यह योजना काफी लोकप्रिय हुई है और इस योजना को देश के अन्य राज्य भी अपनाने के लिए आगे आ रहे हैं।

कोंडागांव । शौर्यपथ । महिलाओं को रोजगार से जोड़कर आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान का शुभारंभ किया गया है। इन महिलाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार के ओर से हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। आज बिहान की महिलाएं समूह से जुड़कर सफलता की नयी कहानियां लिख रही है तथा अपने सपने को पंख दे कर नयी उड़ान भरने को तैयार है। बिहान से जुड़ कर गांव की महिलाएं अपना स्वरोजगार स्थापित कर पारिवारिक खर्चों में हाथ बटा रही हैं साथ ही परिवार और समाज में अपना एक अलग पहचान भी बना रही है।

 कोण्डागांव जनपद पंचायत के चिपावण्ड क्लस्टर के अंतर्गत ग्राम पंचायत पलारी में 21 बिहान समूहों का गठन किया गया है। जिससे यहां के 225 परिवार जुड़ चुके है। इन्हीं में से एक प्रगतिशील समूह गायत्री स्व सहायता समूह की महिलाओं द्वारा कोण्डागांव जिला पंचायत परिसर में कैंटीन का संचालन किया जा रहा है। इस समूह में कुल 10 महिलाएं कार्यरत हैं। समूह द्वारा जिला पंचायत एवं जिला कार्यालय में कार्यरत कर्मियों के साथ इन कार्यालयों में अपने कार्य हेतु आने वाले आगंतुकों को शुद्ध एवं स्वादिष्ट भोजन कराते है। 

 इस संबंध मंे समूह की अध्यक्ष हीरादेवी बघेल बताती हैं कि समूह में जुड़ने से पहले वे सभी पारंपरिक रूप से खेती-किसानी और मेहनत मजदूरी कर अपना जीवनयापन किया करते थे, जिस कारण सभी की आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर थी। जहां उन्हे बिहान के अधिकारियों द्वारा कैंटिन संचालन के लिए प्रेरित किया गया। जिसके बाद उन्होने बिहान योजना अंतर्गत समूह निर्माण कर स्वयं का व्यवसाय 2018 में प्रारंभ किया। प्रारंभ में बिहान योजनांतर्गत उन्हे 15 हजार रूपये की अनुदान राशि एवं जिला पंचायत के निकट संचालन हेतु भूमि उपलब्ध करायी गयी थी। इसके साथ 60 हजार रूपये सामुदायिक निवेश कोष के द्वारा निम्न ब्याज दर पर प्राप्त हुआ जिससे उन्होने कैंटिन संचालन प्रारंभ किया था। जिससे उन्हें अतिरिक्त आय का साधन मिल गया और वे निरंतर आर्थिक रूप से सशक्त हो रही है। 

 समूह की सदस्य उमेश्वरी देवांगन ने बताया कि कैंटिन के माध्यम से यहां सुबह के नाश्ते से लेकर दोपहर का भोजन एवं कार्यालयों में होने वाले शासकीय कार्यक्रमों हेतु स्वल्पाहार भी बनाया जाता है। जिससे हमें अच्छी आय प्राप्त हो रही है। वर्ष 2021-22 में समूह को लगभग 30 हजार से 40 हजार रुपये प्रतिमाह की आय प्राप्त हुई थी। जो की वर्ष 2022-23 में बढ़कर लगभग 50 से 60 हजार रुपये प्रतिमाह हो गयी है। इसके अतिरिक्त बीच कैंटिन के विस्तार एवं शेड निर्माण के लिए योजनांतर्गत ही बैंक से 02 लाख तथा ऋण अदायगी पर 03 लाख रुपयों का अतिरिक्त ऋण भी प्राप्त हुआ। जिससे कैंटिन में बैठने एवं कैंटिन की सुरक्षा हेतु फैंसिग कार्य कराया गया। प्राप्त ऋण के भुगतान हेतु प्रतिमाह आय से अंश राशि एकत्रित कर समूह द्वारा अब बैंक ऋण का पूर्ण भुगतान कर दिया है। 

 वर्तमान में समूह द्वारा अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए बैंक से 6 लाख रुपए का ऋण लिया गया है। आने वाले समय में समूह के सदस्यों द्वारा टेंट हाऊस खोलकर समूह की आर्थिक स्थिति को और सुदृढ़ करने के तथा व्यवसाय बढ़ाने की योजना तैयार की गयी है। ताकि सदस्यों की प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि की जा सके। समूह की महिलाएं बताती है कि बिहान से जुड़ने के पश्चात वे सभी अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा प्रदान करने के साथ पारिवारिक खर्चों में भी अपना योगदान प्रदान कर पा रही है। जिससे वे सभी बहुत खुश हैं तथा आत्मनिर्भर बनकर गर्व से जीवन यापन कर रही है।

दुर्ग। शौर्यपथ । नगर पालिक निगम सीमा क्षेत्र अतर्गत डाटा सेंटर में आज बुधवार को महापौर धीरज बाकलीवाल की अध्यक्षता में आयोजित मेयर इन काउंसिल की बैठक आयुक्त लोकेश चन्द्राकर और एमआईसी सदस्यों एवं अधिकारियों की मौजूदगी में बैठक रखी गई। बैठक में लोक कर्म विभाग प्रभारी अब्दुल गनी,वित्त विभाग प्रभारी दीपक साहू,राजस्व विभाग प्रभारी ऋषभ जैन,जल कार्य प्रभारी संजय कोहले,विद्युत विभाग प्रभारी भोला महोविया,सामान्य प्रशासन प्रभारी जयश्री जोशी,महिला बाल विकास प्रभारी सुश्री जमुना साहू,स्वास्थ्य विभाग प्रभारी हमीद खोखर,पर्यावरण विभाग प्रभारी सत्यवती वर्मा, सांस्कृतिक विभाग प्रभारी अनूप चंदानिया,गरीबी व उपश. विभाग प्रभारी शंकर ठाकुर,शिक्षा विभाग व खेल कूद विभाग प्रभारी मनदीप सिंह भाटिया की उपस्थिति में 20 बिंदुओं के एजेडों पर चर्चा किया गया है।शिक्षक नगर में नई पानी टंकी बनाई जाएगी।15 वे वित्त आयोग की अनुशंसा पर शासन को कार्य निष्पादन की अनुमति दिए जाने हेतु प्रस्ताव प्रेषित किया गया है। प्रस्ताव पारित:नगर निगम सीमा अंतर्गत लगभग 10,000 नल कनेक्शन शिफ्टिंग कार्य एमआईसी में मिली मंजूरी।गौरव पथ से जीई रोड मेनोनाईट चर्च तक मार्ग चौड़ी करण उन्न्यन और विद्युतीकरण कार्य ,विभिन्न वार्डो में नाला निर्माण कार्य,शिक्षक नगर में 1 नग ओव्हरहेड टैंक का निर्माण कार्य, इसके बाद लगभग 30 किलों मीटर 100 मिली मीटर और 150 मिली मीटर व्यास की पाईप बिछाने का कार्य, चर्चा के बाद कई प्रस्तावों को स्वीकृत दी गई। जिसके बाद महापौर धीरज बाकलीवाल ने बैठक में शासन द्वारा चलाए जा रहे कार्य योजना का शत प्रतिशत पालन करने को कहा गया । वहीं बैठक में विकास कार्यो के प्रगति के साथ करने को कहा।नगर निगम 14 वे वित्त आयोग अंतर्गत गंजपारा चौक से शिव नाथ मुक्तिधाम मार्ग में ट्यूबलर पोल स्थापना और प्रकाश व्यवस्था लागत लगभग 55 लाख हेतु ,वार्ड कं0-16 सिकोला बस्ती के अंतर्गत 14वें वित्त आयोग से 80 फीट चौड़े घरसा रोड़ में नाली निर्माण की स्वीकृति प्राप्त हैं। स्वीकृत राशि रू. 77.10 लाख हैं जिसमें से प्राक्कलन अनुसार प्रस्तावित नाली का निर्माण किया जा चुका हैं। जिसकी व्यय राशि रू. 33.98 फलन हैं। स्वीकृत राशि के शेष राशि रू. 43.12 लाख से उसी नाली से संलग्न अन्य नालियों का उसी वार्ड में निर्माण कराया जाना हैं, जिसका प्राक्कलन राशि रू. 42.60 लाख का तैयार कर विभाग द्वारा प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया हैं। प्रकरण विचार व निर्णय को सर्व सम्मति से स्वीकृत की गई।कार्यालय के कार्यादेश क्रमांक- 112 दिनांक 15 जुलाई .2022 के अनुसार ठेकेदार श्री राजेन्द्र कुमार वैष्णव, दुर्ग द्वारा वार्ड क्रमांक-09 भंगुराम देवांगन से चन्द्रकांत गजेन्द्र तक सीमेंट सडक निर्माण कार्य कराया जाना था। उक्त स्थल में सीमेंट सड़क निर्माण का स्थल परिवर्तन करने हेतु पार्षद के द्वारा पत्र दिया गया व स्थल परिवर्तन उपरांत कार्य माना बाई यादव के घर से चन्द्रकांत गजेन्द्र के घर तक रोड निर्माण किया जाना हैं। अधोसंरचना मद का स्थल परिवर्तन करने का अधिकार एमआईसी में हैं। जिसकी स्वीकृति अपेक्षित हैं। विभाग द्वारा प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया हैं। प्रकरण को स्वीकृति प्रदान की गयी। कार्यालय के कार्यादेश क्रमांक-238/07 दिनांक 08 फरवरी 2022 के तहत ठेकेदार मे क्वालिटी कंस्ट्रक्शन, भिलाई द्वारा वार्ड क्रमांक-30 रमेश रेडियो से गुजराती धर्मशाला तक डामरीकरण संधारण कार्य कराया जाना था। जिसकी स्वीकृत राशि 3.73 लाख रू. हैं। वर्तमान में उपरोक्त स्थल में अन्य मद से कार्य कराया जा चुका हैं। पार्षद से चर्चा अनुसार प्रकरण में स्वीकृत राशि से मान होटल के सामने से प्रिया श्रृंगार सदन मुख्य मार्ग मार्केट का कार्य कराने का अनुरोध किया गया हैं। अधोसंरचना मद का स्थल परिवर्तन करने का अधिकार एम०आई०सी० में हैं। जिसकी स्वीकृति प्राप्त की गयी। नगर पालिक निगम, दुर्ग क्षेत्रांतर्गत ठगड़ा बांध सौंदर्यीरण कार्य कर पिकनिक स्थल के रूप में विकसित किया जा रहा हैं। जिसके तहत् फूड जोन / चौपाटी, किड्स जोन एवं नौका विहार इत्यादि की व्यवस्था हैं। योजना को मूर्त रूप दिये जाने के लिए इसके संचालन संधारण हेतु व्यक्तियों/फर्म/एजेंसी को आबंटन करने हेतु पात्रता की अर्हता, नियम व शर्ते एवं शुल्क निर्धारण करने की आवश्यकता को भी स्वीकृति प्रदान की गई।14 वें वित्त आयोग अंतर्गत मे० महामाया ट्रेडर्स एवं सप्लायर्स को वार्ड कं0 16 सिकोला बस्ती में एम.एल. यादव के मकान से भराने के मकान तक नाली निर्माण हेतु रू0 1328547.00 का कार्यादेश 23 दिनांक 14.जुलाई 2021 को जारी किया गया था जिसमें स्थल पर रू0 378013.00 का कार्य किया गया हैं शेष कार्य स्थल पर पानी निकासी हेतु पर्याप्त भूमि नहीं होने से नहीं किया जा सकता। पार्षद द्वारा बचत राशि से चन्द्रशेखर देवांगन से अनिल निर्मलकर, नवीन साहू से दीपक कुमार डे, कृष्णा कुंज से ज्वाला बंजारे एवं शिव प्रसाद साहू से तक।वार्ड पार्षद श्री देवनारायण चन्द्राकर, वार्ड कं0-18 द्वारा आवेदन पत्र प्रस्तुत कर सड़क किनारे सार्वजनिक नाली पर शौचालय निर्माण हुआ हैं। शौचालय के पीछे उद्योग विभाग द्वारा आबंटित साहू वुडन वर्क्स उद्योग संचालित हैं। उक्त निर्माण कार्य से न केवल व्यवसाय प्रभावित होता हैं, बल्कि आवागमन भी पूर्ण रूप से प्रभाविंत होता हैं। शौचालय का आधा हिस्सा नाली पर हैं, तथा आधा हिस्सा सड़क जमीन पर हैं। भविष्य में सड़क विसतारीकरण के कार्य को प्रभावित कर सकता हैं। जनहित में एवं व्यवसाय को देखते हुए उक्त शौचालय के लिए नये सिरे से अन्य स्थल निरीक्षण कर निर्माण कराये जाने हेतु निवेदन किया हैं। शौचालय निर्माण हेतु स्थल चयन की कार्यवाही बाबत् प्रकरण द्वारा प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया हैं। माननीय मुख्यमंत्री जी की घोषणा दिनांक 22 मार्च 2022 जिला दुर्ग के तहत् माननीय मंत्री सचिवालय, नवा रायपुर का पत्र क्र. 5-27 पृष्ट कं. - 2529 दिनांक 07 जून 2022 प्राप्त हैं। पत्र के पालन में कार्यालयीन पत्र कं. 347/22 जुलाई 2022 द्वारा माननीय मुख्यमंत्री जी की घोषणा अनुसार शहर के विभिन्न वार्डो में सीमेंट सड़क एवं नाली निर्माण हेतु राशि रू. 1000.00 लाख का प्रस्ताव तैयार कर प्रेषित किया जा चुका हैं। उक्त मद के अंतर्गत वार्ड कं. 01 से 60 तक सी.सी. सड़क/नाली/नाला / डामरीकरण कार्य का समावेश किया गया हैं। विभाग द्वारा प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया हैं।साथ ही स्पैरो निगम क्षेत्र के वार्डो में डोर टू डोर-संपत्तिकर,समेकितकर,जलकर सहित अन्य करो कि वसूली 31 मार्च 22 तक ही कर सकेंगे:उक्त सभी प्रस्तावों को सर्व सम्मति से स्वीकृति प्रदान की गई।बैठक में उपायुक्त मोहेंद्र साहू,कार्यपालन अभियंता एसडी शर्मा,कार्यपालन अभियंता आरके पांडेय,सहायक अभियंता आरके जैन,भवन अधिकारी प्रकाशचंद थवानी,सहायक भवन अधिकारी गिरीश दीवान,स्वास्थ्य अधिकारी जावेद अली,लेखाधिकारी आरके बोरकर, उपअभियंता भीमराम,जनसंपर्क अधिकारी थानसिंह यादव, सचिव शरद रत्नाकर जलकार्य निरीक्षक नारायण ठाकुर,पंकज चद्रवंसी,सहित अन्य मौजूद रहें।एमआईसी बैठक के दौरान प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी जी की माताजी हीराबेन जी,पूर्व पार्षद निलेश मडामे जी,पार्षद मनी गीते जी एवं जैन मुनि श्री रतन मुनि जी के निधन पर दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की।

दुर्ग। शौर्यपथ । आज कलेक्टर  पुष्पेन्द्र कुमार मीणा कुम्हारी के हृदय स्थल पर स्थित बड़ा तालाब पहुंचे थे। 16 करोड़ के लागत से बड़ा तालाब को वहां के क्षेत्र के नागरिकों के लिए एक मनोरंजन स्थल के रूप में परिवर्तित किया जा रहा है। जिसका उद्घाटन शीघ्र ही मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा किया जाना है। कलेक्टर ने अपने निरीक्षण के दौरान उपस्थित संबंधित अधिकारियों से कार्य की प्रगति के संबंध में जानकारी ली और उन्हे शीघ्र बचे हुए कार्य को पूरा करने के निर्देश भी दिये। उन्होंने बड़ा तालाब के प्रवेश द्वार के फ्रंट व्यू और बेहतर से बेहतर करने के लिए निर्देशित भी किया ताकि वहां से गुजरने वाले लोगों को बड़ा तालाब की सुंदरता का अंदाजा बाहर से ही हो जाये। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को फ्लावर बेड व प्लांटेशन पर विशेष रूप से जोर देने के लिए कहा ताकि आगंतुकों को लगे कि वो प्रकृति के समीप है। इसके अलावा उन्होंने बड़ा तालाब के परिधि के अंदर स्थित 08 फूड स्टाल का निरीक्षण भी किया। जहां उन्होंने फूड स्टाल का टेंडर ऐसे फूड चेन या दुकानदार को देने के लिए कहा, जो वैरायटी ऑफ फूड, टेस्ट और हाईजिनिक लेवल को मेंटेन कर सके। इसके साथ ही साथ उन्होंने लगने वाले प्लांटस व फुलवारी के मेंटेनेंस के लिए नियमित रूप से 7 से 10 माली लगवाने के निर्देश संबंधित अधिकारी को दिये ताकि पौधों और फूलों का मेंटेनेंस नियमित रूप से किया जा सके।

*बुलेट टॉय ट्रेन दौड़ेगी फर्राटे के साथ -* बड़ा तालाब मनोरंजन स्थल पर बुलेट टॉय ट्रेन रखी गई है जिसमें 48 लोगों की बैठक व्यवस्था है । बच्चों के लिए ये विशेष रूप से आकर्षण का केन्द्र रहेगा जिसमें वो म्यूजिकल फाउंटेन और अन्य मनोरंजक चीजांे का आनंद लेते हुए मैग्नेटिक बुलेट ट्रेन का लुत्फ उठा पायेंगे । 

*प्रवेश द्वार पर रहेगा एक बाज, दो हाथी व ग्रीन वाकिंग टनल, सी लिंक ब्रिज इत्यादि होंगे अन्य आकर्षण -* बड़ा तालाब के प्रवेश द्वार पर आगंतुकों के स्वागत के लिए एक बाज और दो हाथी प्रवेश द्वार पर स्थाई रूप से स्थापित रहेंगे।इसके साथ - साथ मनोरंजन स्थल के भीतर नागरिकों को तालाब के प्राकृतिक सौंदर्य के अलावा ग्रीन वाकिंग टनल, फाउंटेन, लेजर शो विथ विडियो प्रोजेक्शन, स्पाईक लाईट , फ्लावर बेड, बच्चों के लिए प्ले सेक्सन और बड़ा तालाब के परिधि स्थल के भीतर ठीक बीचों-बीच सी लिंक ब्रिज निर्मित है। जो कि बड़ा तालाब आने वाले सभी आगंतुकों के लिए आकर्षण का केन्द्र रहेगा । 

इसके अलावा कलेक्टर कुकदा तालाब के निरीक्षण के लिए पहुंचे थे, जहां उन्होंने उपस्थित संबंधित अधिकारियों को तालाब की सफाई मंदिरों की रंगाई और छायादार पेड़ लगाने के निर्देशित किया ।

      इस अवसर पर एसडीएम  बृजेश कुमार क्षत्रिय, सीएमओ  जितेन्द्र कुशवाहा और अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे ।

दुर्ग । शौर्यपथ । नगर पालिक निगम भिलाई के सेक्टर 6 स्थित आत्मानंद स्कूल में आज एस्ट्रोनॉमी लैब का शुभारंभ भिलाई के महापौर श्री नीरज पाल ने किया। इस दौरान निगम आयुक्त श्री रोहित व्यास विशेष रूप से मौजूद थे। अब एस्ट्रोनॉमी लैब में बच्चों को ब्रह्मांड के बारे में सवालों के जवाब मिल सकेंगे। बच्चे यह जान सकेंगे कि आसमान का रंग नीला क्यों है, तारे क्यों चमकते हैं, चांद और सूरज कहां छिप जाते हैं, रात के समय आसमान काला क्यों दिखाई देता है, गुरुत्वाकर्षण का क्या प्रभाव पड़ता है, कितने प्रकार के ग्रह होते है, चंद्रमा ऑर्बिट कैसे करता है इत्यादि की जानकारी इस लैब के जरिए मिल पाएगी। टिमटिमाते तारे की नई-नई जानकारियां भी हासिल कर सकेंगे। इस एस्ट्रोनॉमी लैब में टेलीस्कोपिक की सुविधा भी मौजूद है। एस्ट्रोनॉमी लैब का प्रमुख उद्देश्य सभी छात्रों के अंदर अंतरिक्ष के व्यवहारिक ज्ञान के जरिए उत्सुकता जागृत करना, छोटी उम्र से ही सभी बच्चों में साइंटिफिक टेंपर विकसित करना, टेलिस्कोप के माध्यम से सौरमंडल के अन्य ग्रहों को पास से देखना और उनके चित्र को कैद करना, अंतरिक्ष व आकाश मंडल की गतिविधियों की जानकारी हासिल करना शामिल है। महापौर ने कहा कि एस्ट्रोनॉमी लैब के खुलने के साथ ही शिक्षा के क्षेत्र में एक बड़ा काम हुआ है, अंतरिक्ष में कई पहलू है जिन्हें जानने का प्रयास इसके जरिए किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कलेक्टर श्री पुष्पेंद्र मीणा तथा निगम आयुक्त श्री रोहित व्यास के सतत प्रयासों से आत्मानंद स्कूल को एस्ट्रोशाला के रूप में तब्दील किया जा सका है। अंतरिक्ष की किताबी ज्ञान से हटकर प्रायोगिक ज्ञान की दिशा में ले जाने का अच्छा प्रयत्न है। एस्ट्रोनॉमी लैब खुलने से विद्यार्थियों के सामान्य ज्ञान बढ़ने से प्रतिस्पर्धा की भावना भी विकसित होगी तथा विद्यार्थियों की रुचि विज्ञान में बढ़ेगी। विधायक श्री देवेंद्र यादव ने आत्मानंद स्कूल में शिक्षा विकास को बढ़ावा देने के लिए इसे अच्छी पहल बताया। एस्ट्रोनॉमी लैब में कई प्रकार के वर्किंग मॉडल शामिल है, जिनके जरिए अंतरिक्ष के कई रहस्यमयी चीजों की जानकारी मिल पाएगी। एस्ट्रोनॉमी लैब विद्यार्थियों के ज्ञानवर्धक के लिए मील का पत्थर साबित होगा। उल्लेखनीय है कि निगमायुक्त श्री व्यास ने शिक्षा की दिशा में बढ़ोतरी हेतु कुछ अलग कार्य करने का काम किया है, एस्ट्रोनॉमी लैब को लेकर वे भिलाई में आते ही प्रयत्नशील थे, आज लैब प्रारंभ करवाकर आत्मानंद स्कूल को शिक्षा की ऊंचाइयों पर उन्होंने पहुंचाने का काम किया है। बच्चों में इस अनोखे लैब को लेकर काफी उत्सुकता है। एस्ट्रोनॉमी लैब के माध्यम से स्पेस में कैसे जाया जाता है, मिसाइल का क्या काम होता है, स्पेस में जाने पर मानव शरीर के अंगो पर किस प्रकार का प्रभाव पड़ता है, इन सभी का भी ज्ञान मिलेगा, लैब के अंदर प्रवेश करते ही अंतरिक्ष यात्रा की अनुभूति प्रतीत होता है, क्योंकि लैब में कई प्रकार के वर्किंग मॉडल उपलब्ध है। एस्ट्रोनॉमी लैब के शुभारंभ के दौरान जिला शिक्षा अधिकारी श्री अभय जायसवाल, जोन अध्यक्ष श्री राजेश चौधरी, जोन आयुक्त श्री खिरोद्र भोई, सहायक संचालक शिक्षा श्री अमित घोष, स्कूल की प्राचार्य दलजीत कोराडा, एस्ट्रोलैब डेवलपर अनुष्ठा दास वैष्णव, कार्यपालन अभियंता सुनील दुबे, सहायक अभियंता वसीम खान, उप अभियंता श्वेता महेश्वर तथा स्कूल के स्टॉफ व छात्र, छात्राएं मौजूद रहे।

*आत्मानंद इंग्लिश मीडियम के प्रत्येक स्कूलों में स्टार गैजिंग के माध्यम से देख सकेंगे खगोलीय घटनाओं को* निगम आयुक्त श्री रोहित व्यास ने कहा कि आत्मानंद सरकारी इंग्लिश मीडियम के सभी स्कूलों में खगोलीय घटनाओं के लिए स्टार गैजिंग के माध्यम से चांद, जुपिटर, मार्स, स्टार्स आदि के बारे में जानकारी देते हुए दिखाया जाएगा तथा इसके बारे में विस्तृत जानकारी भी प्रोजेक्टर के माध्यम से एक्सपर्ट के द्वारा बच्चों को प्रदान की जाएगी। जिसकी शुरुआत सेक्टर 6 के आत्मानंद स्कूल से हो चुकी है।

दुर्ग। शौर्यपथ । नारायणपुर जिले में धर्मांतरण के प्रतिक्रिया स्वरूप हुई घटना को सर्व आदिवासी समाज की भावनाओं का प्रकटीकरण करार देते हुए भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष जितेंद्र वर्मा ने इसके लिए प्रदेश के कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। 

जिला भाजपा अध्यक्ष जितेंद्र वर्मा ने कहा कि कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के अस्तित्व में आने के बाद से धर्मांतरण करवाने वाले तत्वों का मनोबल बेहद बढ़ गया है, इसी कारण आदिवासियों का धर्मांतरण चरम सीमा पर पहुंच गया है, ऐसे में आदिवासी इलाकों में वर्ग संघर्ष और आक्रोश की स्थिति बनना स्वाभाविक है। भूपेश सरकार धर्मांतरण करने वालो को सरंक्षण दे रही है जिसके परिणामस्वरुप बडी संख्या में आदिवासी समाज के भोले भाले मासूम लोगों को गुमराह करके धर्मान्तरित किया जा रहा है। धर्मांतरण के माध्यम से छत्तीसगढ़ की आदिवासी संस्कृति को नष्ट करने का अंतरराष्ट्रीय षड्यंत्र चल रहा है। धर्मांतरण के माध्यम से राष्ट्रांतरण सरकारी संरक्षण में चल रहा है। 

जितेंद्र वर्मा ने कहा कि धर्मांतरण के माध्यम से भूपेश सरकार में आदिवासियों को प्रताड़ित होना पड़ रहा है। आदिवासी समाज अपने अस्तित्व, अस्मिता व स्वाभिमान को लेकर सड़क की लड़ाई लड़ने मजबूर हो गया है, इसकी सारी जिम्मेदारी भूपेश सरकार पर है।

 दुर्ग / शौर्यपथ /

  दुर्ग नगर पालिक निगम में भ्रष्टाचार की बात करें तो इसकी कोई सीमा नहीं महीने भर का काम महीनों में खत्म होता है गुणवत्ता की बात करना बेमानी सा प्रतीत होता है किंतु अधिकारियों द्वारा अपने पद की ताकत का इस तरह इस्तेमाल करना कि इससे किसी की जान चली जाए कहां तक सही है.
   मामला 3 महीने पुराना है किंतु अगर मामले की गंभीरता को देखा जाए तो क्या नगर पालिक निगम में ऐसे अधिकारियों को कार्य करने का अधिकार है जो अपने अधीनस्थ कर्मचारियों की भावनाओं को तथ्यों  को भी ना समझे ऐसा ही एक मामला है जिसमें मृतक अशोक कुमार करिहार जो कि स्वास्थ्य विभाग में सफाई कामगार था इसे अपने जीवन काल में स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के कारण मेडिकल छुट्टी की दरखास्त थी किंतु जिम्मेदार अधिकारी द्वारा मेडिकल के आधार पर भी छुट्टी ना देना साफ-साफ अधिकारियों की तानाशाही को दर्शाता है अधिकारियों की इस तानाशाही के कारण एक परिवार आखिरकार टूट गया।
   प्राप्त जानकारी के अनुसार मेडिकल लीव की अनुशंसा जोन आयुक्त द्वारा की जाती है किंतु दुर्ग नगर पालिक निगम के उपायुक्त महेंद्र साहू ने बार बार निवेदन करने के बाद भी अशोक कुमार करिहार को मेडिकल छुट्टी नहीं दी अशोक कुमार करिहार ने आखिरकार अपनी हालत से परेशान होकर अपने जीवन को समाप्त कर लिया और जाते-जाते अपना अंतिम पत्र शहर के विधायक अरुण वोरा महापौर धीरज बाकलीवाल एवं आयुक्त नगर पालिक निगम दुर्ग के नाम लिखकर अपनी पीड़ा बता दी किंतु संवेदनहीनता की सारी हदें तो तब हो गई जब एक मृत व्यक्ति ने अपने सुसाइड पत्र में अपने पीड़ा को दर्शाया एवं जिम्मेदार अधिकारियों पर भी इशारा किया बावजूद इसके मामले पर ना ही नगर पालिक निगम आयुक्त ने ना ही शहर में विकास की बात करने वाले और जनता के हितों की रक्षा करने की बात करने वाले विधायक अरुण वोरा ने और ना ही दुर्ग नगर निगम क्षेत्र के प्रथम नागरिक महापौर धीरज बाकलीवाल ने मामले को स्वयं संज्ञान लिया . 25 सितंबर 2022 को लिखे पत्र में स्वर्गीय अशोक परिहार ने अपनी पीड़ा तो बता दी किंतु उनकी पीड़ा को किसी ने भी गंभीरता से नहीं लिया।
आखिर किस नियम के तहत दे दी गई अनुकंपा नियुक्ति -
  स्वर्गीय अशोक करिहार के बेटे को मृतक की मौत के 1 हफ्ते के अंदर अनुकंपा नियुक्ति दे दी जबकि नगर निगम के रिकॉर्ड के अनुसार मृतक का मृत्यु प्रमाण पत्र अनुकंपा नियुक्ति 2 हफ्ते बाद बना. यह तो अच्छी बात है कि हफ्ते भर के अंदर अनुकंपा नियुक्ति कर दी गई किंतु वही अगर दूसरा पहलू देखा जाए तो इसी नगर पालिक निगम दुर्ग में ऐसे 41 लोग हैं जो अनुकंपा नियुक्ति की राह देख रहे हैं तो फिर आखिर इस तरह से भेदभाव कर अनुकंपा नियुक्ति जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा किस नियम के तहत दी गई और इस पर निगमायुक्त विधायक एवं महापौर आखिरकार क्यों मौन है क्या उन 41 लोगों ने अपने मुखिया को नहीं खोया है क्या उनकी पीड़ा भी इस पीड़ा से कम है क्या उनका अधिकार नहीं है अनुकंपा नियुक्ति पाने का तो फिर आखिर किस जिम्मेदार अधिकारी ने नियमों को ताक में रखकर बिना मृत्यु प्रमाण पत्र के अनुकंपा नियुक्ति जारी कर दी अगर संवेदना इतनी ही गहरी है तो फिर 41 लोग जो अनुकंपा नियुक्ति की राह देख रहे हैं आखिर उनसे क्यों भेदभाव कर रहे हैं निगम के जिम्मेदार अधिकारी.

मृतक अशोक करिहार

बड़ा सवाल ये उठता है कि आखिर सफाई कामगार अशोक करिहार को किस अधिकारी ने इतना पीडि़त कर दिया था कि उसे अपनी पीड़ा सहन नहीं हुई और अपनी जीवन लीला को समाप्त करना पड़ा भारत के संविधान में किसी को प्रताडि़त करना और उसे इस हद तक प्रताडि़त करना कि वह आत्महत्या कर ले अपराध माना जाता है तो फिर आखिरकार अशोक करिहार के पत्र पर क्यों कोई अधिकारी संज्ञान नहीं ले रहा है वह भी उस जिले में जिस जिले में प्रदेश के मुख्यमंत्री का निवास हो प्रदेश के गृह मंत्री का निवास हो यह सवाल आज भले समाज भूल जाए किंतु मृतक अशोक कुमार करिहार का परिवार हमेशा इसका जवाब ढूंढता रहेगा क्या प्रशासन मृतक अशोक कुमार करिहार के परिवार को सुसाइड नोट में उठ रहे सवालों का जवाब देगा या कद्दावर अधिकारी अपने पैसे के दम पर यूं ही कमजोर और छोटे कर्मचारियों को प्रताडि़त करते हुए अपने कार्य को अंजाम देते रहेंगे...

मृतक का अंतिम पत्र

रायपुर / शौर्यपथ /
    छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जन अधिकार रैली में अपना वक्तव्य छत्तीसगढ़ी भाषा में बोला अपना वक्तव्य अपनी चिर परिचित अंदाज में कका अभी जिंदा है से शुरुआत की। मुख्यमंत्री ने कहा कि संविधान में जिसकी व्यवस्था है उसका पालन नहीं हो रहा है इसलिए यह जन अधिकार रैली निकाली गई है जब चुने हुए विधायको ने  विधानसभा में बैठकर जिस कानून को पारित किया राजभवन ने उसे रोक दिया भारतीय जनता पार्टी ने राजभवन को राजनीति अखाड़ा अखाड़ा बना कर रख दिया है और जो अधिकार छत्तीसगढ़ की जनता को मिलना चाहिए उसमें रुकावट डालने का काम कर रही है 2 दिसंबर को आरक्षण विधेयक पारित हुआ जिसमें बाबा साहब अंबेडकर ने संविधान में जो नियम बनाए हैं एवं जनसंख्या के आधार पर नियमानुसार आरक्षण मिलना चाहिए वही आरक्षण देने का काम कांग्रेस सरकार कर रही है।
    भारतीय जनता पार्टी 2004 से लेकर 2020 तक आदिवासियों को 20 त्न  दे रही थी अनुसूचित जाति को 12 परसेंट दे रही थी मंडल कमीशन की रिपोर्ट के अनुसार पिछड़ा वर्ग को 27त्न देना है केंद्र सरकार ने ईडब्ल्यूएस को 10त्न तक आरक्षण देने की बात की थी जिस समय कांग्रेस सरकार ने 82 परसेंट आरक्षण देने की बात की तब राज्यपाल ने विधेयक  पर साइन कर दिया जब कोर्ट ने आरक्षण का आधार पूछा तब कांग्रेस सरकार ने क्वांटिफाईबर डाटा आयोग का गठन किया जिसकी रिपोर्ट 2022 को आ गई रिपोर्ट के आधार पर सरकार ने आरक्षण विधायक को पास किया कांग्रेस सरकार ने कानून से बाहर जाकर कोई कार्य नहीं किया ।
    राजभवन अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर जाकर राज्य सरकार से सवाल कर रही है जबकि आर्टिकल 200 में स्पष्ट लिखा है कि विधानसभा से पारित बिल राज्यपाल या तो दस्तखत करेंगे या तो फिर वापस करेंगे बस यही दो व्यवस्था है . नौकरी देने की बात पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आरक्षण लागू नहीं है तो राज्य सरकार किस आधार पर भर्ती करें छत्तीसगढ़ सरकार नौकरी देना चाहती है किंतु भाजपा राजभवन के मार्ग से इसे रोकने की कोशिश कर रही है भारतीय जनता पार्टी आरक्षण विधेयक को रोककर छत्तीसगढ़ की जनता से बदला ले रही है
  छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने मंगलवार को रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में जन अधिकार रैली आयोजित की। रैली निकालने से पहले कांग्रेस नेताओं ने सभा को संबोधित किया। सीएम भूपेश बघेल ने रैली को संबोधित करते हुए अपने खास में अंदाज में कहा कि 'कका अभी जिंदा है।Ó
     मंत्री चौबे ने कहा कि आरक्षण मामले को लेकर छत्तीसगढ़ की जनता ईंट से ईंट बजाने के लिए तैयार है। बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि भाजपा की प्रेस विज्ञप्ति को राजभवन की प्रेस विज्ञप्ति बना दी जाती है। आरोप लगाते हुए कहा कि लग रहा है कि प्रदेश में राजभवन का संचालन बीजेपी कार्यालय से हो रहा है। उन्होंने कहा कि यह मांगने की नहीं बल्कि अधिकार की रैली है। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में 71 विधायक वाली सरकार साल 2023 में 75 वाली सरकार होगी। ये लड़ाई की शुरुआत है। अंजाम जो भी हो देखेंगे।

राज्यपाल के पद का दुरुपयोग: लखमा
  दूसरी ओर अपने बयानों के लिए फेमस  उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि छत्तीसगढ़ में 15 साल वाली रमन सरकार की दुकान बंद हो चुकी है। अब दिल्ली में मोदी सरकार की दुकान बंद होगी। छत्तीसगढ़ में राज्यपाल के पद का दुरुपयोग हो रहा है। बीजेपी ने राजभवन को अखाड़े का मैदान बना दिया है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि राज्यपाल अपने पद की गरिमा का ख्याल नहीं रख रही हैं पर जनता सब देख रही है। दावा करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में 90 सीटें कांग्रेस पार्टी जीतेगी। राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनेंगे। दिल्ली में भी कांग्रेस की सरकार बनेगी।
 
Óजनता से बदला ले रही बीजेपीÓ
     पीसीसी चीफ मोहन मरकाम ने कहा कि भाजपा आरक्षण के नाम पर जनता से बदला ले रही है। बस्तर में भाजपा के लोग आग लगाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने भूपेश सरकार का धन्यवाद करते हुए कहा कि भूपेश सरकार ने सभी वर्गों को आरक्षण देने का काम किया है। साल 2023 के विधानसभा चुनाव में जनता भाजपा को करारा जवाब देगी।  

सिंहदेव  ने कहा- 'राज्यपाल निणर्य नहीं ले पा रहीं, तो दे दें इस्तीफा  
मंत्री सिंहदेव ने कहा कि कांग्रेस हमेशा से जनता की आवाज बनकर काम कर रही है पर बीजेपी जनता की आवाज को दबाने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस जनता के अधिकार के लिए सड़क पर लड़ाई लड़ेगी। जन अधिकार रैली जनता की रैली है। विधानसभा के निर्णय को राजभवन में रोका गया है। राज्यपाल अगर निणर्य नहीं ले पा रही हैं तो उन्हें इस पद से अलग कर लेना चाहिए। राज्य में भर्ती प्रकिया भी रुक गई है। युवाओं को नौकरी से वंचित करने का काम कर रही हैं।

  जो विधेयक सर्वसम्मति से पारित किए गए आज उसे कानून बनाने में कैसे अड़चनें पैदा की जा रही हैं जब सर्वसम्मति से कोई विधेयक पारित किया जाए तो उसके बाद उस पर ऐसी अड़चनें पैदा करना छत्तीसगढ़ की जनता के अधिकारों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है - कुमारी शैलजा छत्तीसगढ़ प्रभारी

दुर्ग। शौर्यपथ । प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दादा बन गए हैं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पुत्र चैतन्य बघेल को पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई है इस बात की जानकारी मुख्यमंत्री बघेल ने सोशल मीडिया के माध्यम से दी जिसमें लिखा मैं दादा बन गया पोता हुआ है। अपने पोते से मिलने मुख्यमंत्री बघेल धर्म पत्नी के साथ पहुंचे पोते को देखकर दादा दादी की है आंखों में खुशी के आंसू छलक उठे।

यह तो जगजाहिर है कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बच्चों से अथाह प्रेम करते हैं सभा हो या सार्वजनिक स्थल बच्चों को देखते ही उन्हें गोद में उठाना खिलाना उनके साथ बातें करना उनकी यह आदत प्रदेश की जनता ने कई बार देखी है प्रोटोकॉल को भूल बच्चों से प्रेम करना उन्हें भाता है और आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के लिए यह दिन अनमोल हो गया जब वो प्रदेश की जनता के कका से दादा बन गए । मुख्यमंत्री बघेल के दादा बनने की खबर आम होते ही बधाइयों का सिलसिला शुरू हो गया 2023 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के लिए जिंदगी का सबसे ज्यादा खुशनुमा साल बन गया जब वह दादा बन गए । शौर्यपथ समाचार पत्र की तरफ से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को दादा बनने की ओर चैतन्य बघेल को पुत्र रत्न प्राप्ति की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

भिलाई / शौर्यपथ / आज महापौर नीरज पाल ने 4 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका को नियुक्ति पत्र प्रदान कर उन्हें शुभकामनाएं प्रेषित की। अब यह महिलाएं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका के रूप में कार्य करेंगी। एक प्रकार से नव वर्ष में इन्हें महापौर ने नियुक्ति पत्र देकर तोहफा दिया है। एमआईसी में इनकी नियुक्ति को लेकर हरी झंडी दी गई थी और विभागीय प्रक्रिया पूर्ण कर नियुक्ति आदेश जारी कर दिया गया। नियुक्ति पत्र पाकर महिलाओं के चेहरे में मुस्कान साफ नजर आ रही थी। महापौर ने इन्हें बधाई देते हुए कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका की जिम्मेदारी बहुत महत्वपूर्ण होती है। एक वार्ड, मोहल्ले में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका शासकीय योजनाओं आदि को लेकर अहम भूमिका अदा करती है। उल्लेखनीय है कि निगम आयुक्त रोहित व्यास ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका का नियुक्ति आदेश जारी किया है। अब यह महिलाएं निर्धारित वार्ड क्षेत्रों में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका की जिम्मेदारी निभाएंगी। महापौर नीरज पाल के हाथों नियुक्ति पत्र प्राप्त करने वालों में रागिनी वर्मा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, धनेश्वरी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, पूर्णिमा निर्मलकर आंगनबाड़ी सहायिका एवं दिलेश्वरी ठाकुर आंगनबाड़ी सहायिका शामिल रही। रागिनी वर्मा को वार्ड क्रमांक 8 बजरंग पारा कोहका, धनेश्वरी को वार्ड क्रमांक 16 अटल आवास कुरूद, पूर्णिमा निर्मलकर को वार्ड 7 आरक्षी नगर कोहका तथा दिलेश्वरी ठाकुर को वार्ड क्रमांक 30 गणेश मंदिर खुर्सीपार में नियुक्त किया गया है। नवनियुक्त इन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका को अनिवार्य रूप से विभागीय प्रशिक्षण प्राप्त करना होगा। नियुक्ति आदेश प्राप्त होने के 15 दिवस के भीतर अपनी उपस्थिति इन्हें अनिवार्य रूप से परियोजना अधिकारी एकीकृत बाल विकास परियोजना भिलाई में देना होगा, इसके बाद ही इनकी उपस्थिति मान्य होगी। नियुक्ति पत्र प्रदान करने के दौरान अपर आयुक्त अशोक द्विवेदी, सेक्टर 5 जोन कार्यालय के जोन अध्यक्ष राजेश चौधरी, अजय शुक्ला आदि मौजूद रहे।

Page 1 of 1699

हमारा शौर्य

हमारे बारे मे

whatsapp-image-2020-06-03-at-11.08.16-pm.jpeg
 
CHIEF EDITOR -  SHARAD PANSARI
CONTECT NO.  -  8962936808
EMAIL ID         -  shouryapath12@gmail.com
Address           -  SHOURYA NIWAS, SARSWATI GYAN MANDIR SCHOOL, SUBHASH NAGAR, KASARIDIH - DURG ( CHHATTISGARH )
LEGAL ADVISOR - DEEPAK KHOBRAGADE (ADVOCATE)